Cash Flow Statement in Hindi | Cash Flow क्या होता है?

Cash Flow Statement in Hindi:- दोस्तों यदि आप व्यापार कर रहे या फिर एकाउंट्स के छात्र या छात्रा तो आपने कैश फ्लो स्टेटमेंट (Cash Flow Statement) का नाम सुना होगा। लेकिन यदि आप इस विषय पर विस्तार से जानने चाहते है तो आपको पूरा लेख पढ़ना चाहिए।

कैश फ्लो, कैश फ्लो मूवमेंट, फंड फ्लो जैसे और कई भरी भरकम नाम सुने होने होंगे जो खासतौर पर व्यापार दिशा और दशा को निर्धारित करते है। यदि आप इस लेख को पढ़ रहें हैं तो मेरा मानना है आपको कैश फ्लो स्टेटमेंट (Cash Flow Statement in Hindi) के जानकारी चाहतें है।

इन भारी भरकम शब्दों का किसी भी कारोबारी को ज्ञान होना चाहिए साथ ही यदि आप किसी कंपनी में इन्वेस्ट करना चाहते हैं तो भी आपको इसकी जानकारी होनी चाहिए।

दोस्तों मैं कोशिश करूँगा इस पोस्ट के माध्यम से आपको पूरी जानकारी दूंगा ताकि आपको कही और जाने की जरूरत ना हो। तो आईये विस्तार से इन शब्दों को जानतें है।

इसे भी पढ़े – Personal Loan Defaulter Legal Action Hindi

Cash Flow क्या होता है? – Cash Flow Statement in Hindi

कैश फ्लो को हम अलग करतें हैं तो अच्छे समझ में आएगा। कैश का मतलब पैसा और फ्लो का मतलब बहाव यानि के कैश का बहाव। इसको उदाहरण से समझतें हैं:- मान लीजिये आपकी कोई कंपनी है जिसे सुचारु रूप से चलाने के लिए आपको पैसा चाहिए और जब माल बिकता है आपको पैसा मिलता है। यही प्रक्रिया कैश फ्लो कहलाती है यानि कंपनी में आने और जाने वाले कैश को ही कैश फ्लो (Cash Flow) कहतें।

अकसर व्यापारी आपस में बात करतें है सुने जातें की इतने की सेल हुए पैसा आया और कर्मचारियों की सैलरी, नया कच्चा माल खरीदने में, रेंट देने में, और कई तरह के व्यापारिक खर्चो में पूरा हो गया इसे ही कैश फ्लो कहतें है।

इसे भी पढ़ें – टाटा कैपिटल बिजनेस लोन कैसे लें

किसी भी फर्म की कुशलता को परखने के कई पैमाने है और उन्ही में से एक कैश फ्लो स्टेटमेंट। कैश फ्लो स्टेटमेंट (Cash Flow Statement in Hindi) को देखने से आप आसानी से कंपनी की दशा समझ जातें हैं कंपनी किस स्थिति में है लाभ या हानि में। इससे ये साफ़ पाटा चलता है की कंपनी के पास कितनी नकदी आयी और कितनी नकदी गई।

मैं आपको एक दम सटीक जानकारी दे रहा हूँ नीचे सूची को पढ़ें।

  • एक कंपनी का कैश फ्लो स्टेटमेंट आपको अकाउंटिंग अवधि के दौरान इनफ्लो और आउटफ्लो के बारे में जानकारी देता है. यानि के आपको आसानी से समझ आएगा की कंपनी ने कितना पैसा निकाला और कितना पैसा उसके पास है।
  • किसी भी फर्म में कैश इनफ्लो और ऑउटफ्लो दोनों ही होते है। कैश इनफ्लो कंपनी में आने वाले पैसों की गतिविधयों को बताता है वही ऑउटफ्लो कम्पनी के अकाउंट से कितना पैसा निकाला उस पर जानकारी देता है।
  • परिचालन, निवेश और वित्तीय गतिविधियों से उत्पन्न होने वाला कुल नकदी प्रवाह के बारे में जानकारी प्रदान करता है और प्रत्येक से कितनी नकदी में कितना शामिल हुए है। साथ ही, कैश फ्लो स्टेटमेंट इसके बदलाव के पैटर्न को भी रेखांकित करता है।
  • कैश फ्लो स्टेटमेंट आपको जानकारी देता है की कपंनी कितनी कुशलता से अपने कैश को मैनेज करती है और अपनी देनदारियों के लिए कैसे पैसो का इंतजाम करता है साथ ही कंपनी की जरूरतों के लिए पैसा कहा से लाती है।
  • कैश फ्लो स्टेटमेंट को तैयार करने के लिए आने और जाने वाले कैश से तैयार किया जाता है।

इसे भी पढ़ेपर्सनल लोन न चुकाने पर क्या होगा?

कैश फ्लो स्टेटमेंट – Cash Flow Statement in Hindi

सिंपल भाषा में कैश फ्लो स्टेटमेंट किसी भी व्यापार का वित्तीय लेखा जोखा होता है जिसे देखने से आप उसके वित्तीय की मजबूती और कम्पनी के प्रॉफिट और लॉस की जानकारी मिलती है। यदि आप एक इन्वेस्टर है तो आपको कंपनी की साल दर साल कॅश फ्लो की देख कर अंदाजा लगता है की वह किना बचा रही है।

यदि आपने उपरोक्त लेख को ध्यान से पढ़ा है तो आपको कैश फ्लो स्टेटमेंट के बारे में सही जानकारी मिली होगी। वित्तीय विवरण कैश के बारे में है कि कंपनी से कितना पैसा आया और कंपनी में कितना पैसा बाहर गया लेकिन इसके तीन महत्वपूर्ण भाग हैं (बैलेंस शीट, आय विवरण और नकदी प्रवाह)।

इसे भी पढ़ें – SBI पशुपालन लोन कैसे मिलता है?

कुछ लोग कैश फ्लो स्टेटमेंट और वित्तीय विवरण एक समझ लेते है हालाँकि दोनों में अंतर है। कैश फ्लो स्टेटमेंट दी गई अवधि में कंपनी नकदी लें दें रिकॉर्ड करना होता है जो यह बताता है की सभी राजस्व को एकत्र किया गया या नहीं।

कैश फ्लो के प्रकार

किसी भी बिनेस्स में कैश फ्लो दो प्रकार के होते हैं एक (Cash Inflow) जो पैसा आया और दूसरा (Cash Outflow) जो पैसा बाहर गया। लेकिन इनको तीन भागों में बात जाता है और सही से समझने के लिए निचे पढ़ें।

  • सकारात्मक कैश फ्लो (Positive Cash Flow):- जब मुनाफे को खर्च से ज्यादा बनाया जा रहा हो।
  • नकारात्मक कैश फ्लो (Negative Cash Flow):- खर्चा अधिक और मुनाफा में मामूली बढ़ोतरी को हम इसको नकारात्मक कैश फ्लो की श्रेणी में रखते है।
  • ब्रेक इवन कैश फ्लो (Break Even Cash Flow):- कंपनी को ना मुनाफा हो और ना ही हानि ऐसी स्थिति ही ब्रेक इवन कैश फ्लो कहलाती है।

Open Saving Account With Zero Balance

FAQ – Cash Flow Statement in Hindi

कैश फ्लो को हिंदी में क्या कहते हैं?

कैश फ्लो को हिंदी नकदी प्रवाह कहा जाता है यानि के कंपनी में आने वाले और कंपनी से बाहर जाने की चलन को नकद प्रवाह कहतें।

ऑपरेटिंग एक्टिविटी क्या है?

कंपनी व्यवसाय से संबंधित किसी भी गतिविधि की प्रक्रिया को (Operating Activity) ऑपरेटिंग गतिविधि कहा जाता है। उदहारण के लिए:- कच्चा माल खरीदना, तैयार माल की बिक्री, कर का भुगतान करना, या अपनी सेवाएं बेचना ये सभी परिचालन गतिविधि में शामिल है।

हिंदी में नकदी प्रवाह विवरण क्या है?

लेखांकन में, एक नकदी प्रवाह विवरण एक वित्तीय विवरण है जो लाभ और हानि की स्थिति को दर्शाता है। कैश फ्लो किसी भी व्यवसाय के नकदी प्रवाह को स्थानांतरित करता है।

इसे भी पढ़े –  Lendingkart Business Loan In Hindi

Final Thought

मुझे आशा है आपको कॅश फ्लो स्टेटमेंट (Cash Flow Statement in Hindi) की पूरी जानकारी मिल गई होगी। इसके बाद भी यदि आपके मन में कोई सवाल है तो कमेंट बॉक्स में पूछ सकतें हैं जवाब जल्द दिया जायेगा। यदि आपको मेरा ये (Cash Flow Statement in Hindi) लेख आपको पसंद आया है कृपया इसे शेयर करें हो सकता है किसी और की मदद हो जाएँ।

Leave a Comment